Satyapath Online News

www.satyapathonlinenews.com

वर्तमान में, राज्य की 80% सड़कें उबड-खाबड है, गड्ढों के कारण होने वाली सड़क दुर्घटनाओं में गुजरात देश में छठे स्थान पर है,खराब सड़कों के लिए कौन जिम्मेदार है?

1 min read

गुजरात में मौसमी वर्षा 100 प्रतिशत को पार कर गई है।इसके साथ ही, सभी सड़कों पर गड्ढे गिर गए हैं, चाहे वह शहर हो या गांव।हर साल ये परिदृश्य क्यों देखे जाते हैं? गुजरात के लोग जानना चाहते हैं कि 10,000 करोड़ रुपये से अधिक का बजट होने के बावजूद सड़कें क्यों उबड़-खाबड़ हैं।भले ही सड़क पुनर्वास के लिए बजट में 3600 करोड़ रुपये आवंटित किए गए थे, लेकिन सड़क की ऐसी हालत?

हमारा देश बरसों से भरष्टाचार नामक खतरनाक वायरस से जूझ रहा है, लेकिन अभी तक इसके लिए कोई वेकसिन ढूंढ नही सका।इसमें आम जनता परेशान है और बड़े राजनेताओं के महलों पर महल बनाए जाते हैं और कभी-कभी गरीब और असहाय व्यक्ति को झोपड़ी बनाने का मौका भी नहीं मिलता है।हमारे देश में एक और सिद्धांत है कि अगर आप किसी भी तरह के भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाते हैं तो आपके बचने की कोई गारंटी नहीं है।ऐसी दर्जनों कहानियां हमने देखी और सुनी हैं।

वर्तमान में, राज्य की 80% सड़कें खुरदरी हैं। गड्ढों के कारण होने वाली सड़क दुर्घटनाओं में गुजरात देश में छठे स्थान पर है। खराब सड़कों के लिए कौन जिम्मेदार है?

राज्य में सभी सड़कों की कुल लंबाई 81,246 किमी है, जिसमें से 5146 किमी राष्ट्रीय राजमार्ग है, 17248 किमी राज्य राजमार्ग है, 20112 किलोमीटर मुख्य जिला सड़क है, 10259 किमी अन्य जिला सड़क है, 28481 किलोमीटर ग्रामीण सड़क है।3655 सड़कें मल्टी-लेन, 15295 डबल लेन, 60186 सिंगल लेन सड़कें हैं। सड़कों पर 1518 प्रमुख पुल, 5404 का पुल, 106994 जितने कोझ-वे है।98 फीसदी पक्की सड़कें हैं जबकि केवल 2 फीसदी ही कच्ची सड़कें हैं। राज्य के 99.42 प्रतिशत गांवों में पक्की सड़कें हैं।

(स्रोत – सामाजिक-आर्थिक समीक्षा 2019-20 और सड़क निर्माण विभाग की वेबसाइट)

जब डामर की 2 परतें नहीं होती हैं,इसलिए सड़को में गड्ढे हो जाते है और इसी गड्ढे को मिट्टी से भरा जाता है,जिसकी वजह से सड़के बैठ जाती है।इंजीनियरिंग कॉलेज में प्रोफेसरों ने छात्रों को लंबे समय तक सड़क को अच्छा रखने के लिए तीन चीजों का विशेष ध्यान रखना सिखाया, पहला जल निकासी, दूसरा जल निकासी और तीसरा जल निकासी। इसका मतलब यह है कि अगर बारिश या अन्य पानी के लिए एक उचित जल निकासी व्यवस्था है और पानी लंबे समय तक सड़क पर नहीं रहता है, तो सड़क का जीवन बहुत बढ़ जाता है।इसके लिए सबसे अच्छा विकल्प आरसीसी रोड है। लेकिन इसमें खर्च ज्यादा होता है। यहां सड़क पर विभिन्न एजेंसियों द्वारा खुदाई की जाती है। इस खुदाई के बाद इसे अच्छी तरह से मरम्मत करने की आवश्यकता है।

अब एक डामर सामग्री है जिसका उपयोग चालू बारिश में भी किया जा सकता है। खराब गुणवत्ता वाली सामग्री से सड़कें भी टूट जाती हैं।हमारे पास पहले से ही पैसे की कमी के कारण सड़क की मरम्मत या पुनरुत्थान के लिए एक छोटा बजट है, इसलिए इस क्रस्ट की मोटाई को ठीक से बनाए नहीं रखा गया है।मिट्टी से गड्ढों को भरने से सड़कें बैठ जाती हैं। यदि केवल एक किलोमीटर सड़क पर कपाची की ऊपरी परत क्षतिग्रस्त हो जाती है, तो इस पर लगभग 5 लाख रुपये खर्च होंगे और यदि पूरी सड़क का क्षय होता है, तो इस पर लगभग 4 करोड़ रुपये खर्च होंगे।(इंजीनियरिंग विशेषज्ञों के अनुसार)

किसे दोष देना है: गुजरात सरकार, अहमदाबाद, राजकोट, वडोदरा, सूरत, भावनगर, जामनगर, जूनागढ़ नगर निगम, राज्य की सभी नगरपालिकाएँ और स्थानीय स्वशासन की संस्थाएँ।

कुसूरवार का पता: मुख्यमंत्री कार्यालय, सचिवालय, गांधीनगर और निगम के प्रमुख कार्यालय, जिला कलेक्टर कार्यालय।

सार्वजनिक सूचना का स्थान उल्लंघन: 6,000 किमी राज्य राजमार्गों सहित कुल 81,000 किमी सड़कों पर छह इंच से छह इंच से लेकर 10 फीट तक के अनगिनत गड्ढे।

चाहे शहर हो या गांव, छोटी सड़क हो या बड़ी, जैसे ही सीजन में दो इंच बारिश होती है, सड़कें टूटने लगती हैं और गुजरात के लिए यह कोई नई बात नहीं है।वर्षों से हम सड़कों की इसी हालत को देखते हुए बड़े हुए हैं। हम छोटे से लेकर बड़े तक बढ़ते हैं, उस दौरान अनगिनत बार सड़कें खोदी जाती हैं।

यह तब तक जारी रहेगा जब तक भ्रष्टाचार नामक वायरस, जो कोरोना वायरस से भी अधिक खतरनाक है, हमारे देश में है।हमारे नेता अक्सर हमें बताते हैं कि हम एक विकासशील देश में रह रहे हैं और हमारा देश विकसित हो रहा है। यदि इस तरह का विकास होता है, तो हमारे देश और इस पर शासन करने वाले लोगों ने वास्तव में प्रगति की है। इसे देखकर, किसी को यह मान लेना चाहिए कि यह विकास है!

वह एक गाना था की,जहां डाल-डाल पर सोने की चिड़िया करती है बसेरा, वो भारत देश है मेरा,अभी इसी गाने का स्वर इस तरह होना चाहिए,जहां सडक-सडक पर देखे जाते गड्ढे, वह भारत देश है मेरा।

SAURANGTHAKKAR

AHMEDABAD 

 

लाइव कैलेंडर

September 2020
M T W T F S S
« Aug    
 123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
282930  

LIVE FM सुनें